Patal Bhuvaneshwar का रहस्य, चारों धामों की यात्रा का फल मिलता है यहां

Patal Bhuvaneshwar एक अकेला ही है जहां पर आपको चारों धामों  के दर्शन एक साथ होते हैं यह पिथौरागढ़ उत्तराखंड का एकमात्र  ऐसी गुफा है जो पूरे विश्व में यहीं पर है इसके अलावा ऐसी कोई भी गुफा और आपको देखने के लिए नहीं  मिलेगीI

Patal Bhuvaneshwar

Patal Bhuvaneshwar उत्तराखंड के पिथौरागढ़ डिस्ट्रिक्ट के गंगोलीहाट के क्षेत्र में पढ़ने  वाली एक ऐसी गुफा है जहां पर भक्तों को सभी देवी देवताओं के दर्शन होते हैं चारों धामों के दर्शन यहां पर हो जाते हैं इन सबके अलावा कुछ ऐसे दृश्य आपको देखने को मिलते हैं जिनके बारे में भक्तों को पहले कुछ भी पता नहीं होताI

Patal Bhuvaneshwar
Patal Bhuvaneshwar

पाताल भुवनेश्वर का अनावरण मानवजाति की सहायता करने का एकअद्वितीय  मार्ग है| समुद्र तल से 1350 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पाताल भुवनेश्वर गुफा में स्थित एक मंदिर है| यह गुफा के प्रवेश द्वार से 160 मीटर लंबी और 10 फीट गहरी है| 

Patal Bhuvaneshwar History

पौराणिक धारणानुसार  यह मुख्य रूप से भगवान शिव को समर्पित है| यह भी माना जाता है इस मंदिर में 33  कोटी देवी देवताओं का वास है| इस गुफा की ओर जाती हुई  पतली सुरंग में  अनेक चट्टानों की संरचना एक नकाशी दार विभिन्न  भगवान के जटिल छवियां देख सकते हैं|

यहां से राजरंभा, पंचाचुली, नंदादेवी, नंदाखट यहां से रंभा देवी चोटियों  के भव्य दर्शन देखे जा सकते हैंI इस अद्भुत गुफा के बारे में माना जाता है कि यह पृथ्वी जितनी पुरानी है, इसका विस्तार से उल्लेख “स्कंद पुराण” के मानसखंड के 103वें अध्याय में किया गया है,

जिसमें सबसे पहले मानव ने इस गुफा में प्रवेश किया था, जो त्रेतायुग के दौरान सूर्य राजवंश के राजा “रितुपर्ण” थे। अपनी यात्रा के दौरान, उन्होंने कई शैतानों का सामना किया और “अदिशा हिमसेले ने उनके मार्गदर्शक के रूप में काम किया। द्वापर युग में, इस गुफा को पांडवों ने फिर से खोजा|

Patal Bhuvaneshwar
Patal Bhuvaneshwar

कलियुग में आदिशंकर आचार्य इस गुफा की प्राण प्रतिष्ठा करते हैं और 819 से पुजारी यहां अनुष्ठान करते आ रहे हैं और लोग पूजा और चमत्कार दोनों के लिए यहां आते रहे हैं। इस गुफा में पूजा के लिए काशी (भंडारी परिवार) से आए पुजारी (भंडारी परिवार) को वर्तमान में चंद वंश के राजा द्वारा नियुक्त किया गया है,

भंडारी की 10वीं पीढ़ी के पुजारी रावल गुर्स, दुसानी दुपास, भुल के साथ सभी धार्मिक समारोह कर रहे हैं| वैसे तो यह मंदिर प्राकृतिक  रूप से बना हुआ है लेकिन इसमें थोड़ा बहुत कंस्ट्रक्शन  कस्तूरी राजाओं के द्वारा किया गया जिससे लोगों को दर्शन करने की आसानी हो जाए|

उत्तराखंड का कोई भी टूर को करना चाहते हैं तो उसके लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करेंI 

टूर बुक करें

ध्यान रखने योग्य बातें:

  • गुफा में प्रवेश से पहले कमेटी द्वारा दी जाने वाली रसीद यहां लेनी जरूरी है तभी आप गुफा के अंदर दर्शन हेतु प्रवेश कर पाएंगे|
  • यहां आपके  द्वारा ली गई धनराशि का उपयोग मंदिर गुफा के रखरखाव जनरेटर धार्मिक कार्यों के लिए प्रयोग किया जाता है|
  • गुफा के अंदर गाइड के निर्देशन का पालन करना जरूरी है|
  • गुफा के अंदर जन्माशौच, मृत्युशौच  एवं  अन्य अशौच  की स्थिति में प्रवेश करना वर्जित है|
  • गुफा में गाइड के साथ जाना अनिवार्य है|
  • गुफा की पवित्रता को बनाए रखना समस्त कार्यकर्ता\ यात्रीगण का उत्तरदायित्व है|
  • गुफा के अंदर प्रवेश करते समय आप अपने साथ मोबाइल कैमरे या किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रिक सामान गुफा में नहीं ले जा सकते हैं|
  • गुफा के अंदर आप किसी भी प्रकार का कोई भी सामान नहीं ले जा सकते |

Patal Bhuvaneshwar गुफा की खोज किसने की?

त्रेतायुग के दौरान सूर्य राजवंश के राजा “रितुपर्ण” ने की थी| द्वापरयुग में इस गुफा की खोज पांडवों द्वारा की गई।कलयुग में प्रथम बार 819 ई. में (मानसमंड के स्कंद पुराण के आधार पर) आदि शंकराचार्य द्वारा इस गुफा की खोज की गई एवं उन्हीं के द्वारा चंद राजाओं को गुफा के सम्बन्ध में जानकारी दी गई।

क्या है इस गुफा मंदिर के अंदर?

अंदर प्रवेश करते समय आपको नीचे की तरफ जाना होता है। जिसमें प्राकृतिक की बनी सीढ़ियां मिलती है लेकिन आज के समय में लोगों ने यहां पर लाइट का सिस्टम लगा दिया है। जिससे लोगों को यात्रा करने में तथा दर्शन करने में आसानी हो जाए। यहां मोटे से मोटे, पतले से पतले सभी प्रकार के लोग आसानी से  आ जा सकते हैं। यहां जंजीरी लगाई गई है।

जिससे आसानी से नीचे उतर जा सके तथा वापस आया जा सके।यह गुफा हमेशा ठंडी रहती है।श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। पाताल लोक और पृथ्वी लोक दोनों यहां आपको देखने को मिलेगा। पृथ्वी लोक से आप पाताल लोक में जाएंगे इसीलिए इस जगह का नाम पाताल भुवनेश्वर है। मंदिर पाताल में स्थित है। गुफा पाताल में मानी जाती है आपको देखने के लिए ब्रह्मा, विष्णु ,महेश तीनों एक साथ मिलेंगेI

Patal Bhuvaneshwar
Patal Bhuvaneshwar

जो पान के पत्ते की आकृतिक में बना हुआ है।इसका अपना पुराणिक महत्व है।कथा में वर्णन है राजा परीक्षित को श्राप था कि वह सांप के द्वारा मारे जाएंगे तब उनकी मृत्यु के पश्चात उनके बेटे ने यह यज्ञ करवाया।

जिसमें पृथ्वी के सभी सर्प इस हवन कुंड में जलने लगे। लेकिन इस यज्ञ से तक्षक नाग भाग गए। आपको गुफा में भागते हुए तक्षक नाग की उभरी हुई आकृतिक दिखाई देगी।

इनके बगल में आपको नागराज वासुकी भी देखने को मिलेंगे माना जाता है कि गुफा में दोनों लोग मौजूद हैं| नॉलेज के लिए बता दिया जाए| समुद्र मंथन इन्हीं  नाग से किया गया था और परीक्षित को तक्षक नाग के द्वारा ही डंसा गया था|

इस पाताल के अंदर इच्छाधारी नाग, अलग-अलग प्रकार के नाग, नागिन भगवान के साथ रहते हैं| ऐसा माना जाता है अगर यात्रा के दौरान पाताल भुवनेश्वर  गुफा में किसी को नाग,नागिन या किसी प्रकार के सांप का दर्शन हो जाए तो उसका यात्रा शुभ तथा सफल मानी जाती हैI

शेषनाथ की पूछ के द्वारा दूसरी तरफ रास्ता निकलता है जोगी गुफा में आगे की ओर ले जाता है| यहां जमीन मिट्टी से बनी हुई है। यहां पर देखने के लिए गणेश जी का आधा शरीर भी मिलता है जो कि पत्थर बना हुआ है। स्कंद पुराण में यहां का वर्णन हैं।

गणेश जी के  धड़ के ऊपर कमल की आकृति से अमृत गिरता है। स्कंद पुराण के अनुसार माना जाता है जो भी इंसान पाताल भुवनेश्वर की यात्रा करता है तो चारों धाम की यात्रा मानी जाती है। यहां पर देखने के लिए केदारनाथ,  पंच बद्री,अमरनाथ की गुफा, देखने को मिलेगी। यहां जो भी बताया जा रहा है पत्थर से आकृति से बनी हुई है।

ऐसा माना जाता है अगर कोई व्यक्ति काल भैरव की जीव से प्रवेश कर उनकी पूंछ से बाहर निकल आता है तो उसका दोबारा जन्म नहीं होता है। उसे मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है लेकिन कलयुग में जाना असंभव हो गया यहां पर देखने के लिए पाताल के देवी भी मिलेगी।

अलग-अलग प्रकार के युग मिलेंगे। प्रथम द्वार है पाप द्वार! पाप के लिए माना जाता है कि यह द्वार रावण काल के समय का है क्योंकि रावण काल में सबसे ज्यादा पाप हुए थे। रावण के मरने के पश्चात यह द्वार बंद हो गया। दूसरा दरवाजा धर्म का दरवाजा है।

धर्म के दरवाजे में किसी का भी धर्म से प्रवेश होगा तीसरा द्वार है  रण का द्वार महाभारत काल में बंद हो गया लास्ट द्वारमोक्ष द्वार जब खत्म हो जाएगा तो यह मुख्य द्वार भी बंद हो जाएगा सभी दरवाजे बंद हो जाएंगे लेकिन धर्म का दरवाजा कभी बंद नहीं होगा पुराणों में लिखा है

आगे की ओर बढ़ते मोक्ष के द्वार से प्रवेश करना होता है आगे बढ़ते हुए 7 कुंड देखने को मिलेंगे जिसे पुराणों में अमृत जल  कुंड के नाम से जाना जाता थाI रखवाली के लिए हंस को रखा गया थाI

Patal Bhuvaneshwar
Patal Bhuvaneshwar

लेकिन हंस ने अमृत पीने की सोची जिस कारण उसको शिवजी ने श्राप दे दिया जिस कारण  हंस की गर्दन उल्टी हो गईI आगे की ओर चलने पर शिवजी की जटाए देखने को मिलती है जिसमें से भागीरथी गंगा बहती है

और यह भागीरथी गंगा का पानी नीचे स्थापित 33 कोटि देवी देवताओं के ऊपर गिरता है आगे की ओर बढ़ने पर पाताल भुवनेश्वर के शिवलिंग के दर्शन होंगेI

शिवलिंग ताबे की प्लेट से ढकी हुई है जोगी शंकराचार्य के द्वारा की गई थी आठवीं शताब्दी में इस शिवलिंग में आपको त्रिदेव देखने को मिलेंगे जिसमें ब्रह्मा जी विष्णु शिव जी का दर्शन देखने को मिलेगी इसके आगे काशी की तरफ जाने वाली गुफा मिलेगी जो कि आज के समय में बंद हो चुकी है

पांडव गुफा भी देखने को मिलेगी यहां पर  गुफाएं और है जो चारों दिशाओं में खुलती हैI एक गुफा कैलाश मानसरोवर की तरफ जाती है जहां पर शंकर जी के साथ चौपड़ खेले थे यहां पर आपको बहुत सारे एरावत हाथी के पैर हवा में मिलेंगे

जो कि प्राकृति द्वारा बनाई गई हैं अगर आप यहां घूमने की सोच रहे हैं तो यह जगह यहां की खास जगह में से एक है अगर आप एक बार में चारों धाम की यात्रा करना चाहते हैं तो यह स्थान बहुत ही शानदार हैI

कैसे पहुंचे Patal Bhuvaneshwar गुफा मंदिर?

Patal Bhuvaneshwar पहुंचने के लिए  यदि आप उत्तराखंड के बाहर से आ रहे हैं तो आपको पहले हल्द्वानी या काठगोदाम आना होगा उसके लिए बस या ट्रेन  से आप आ सकते हैंI

यहां से आगे आपको डायरेक्ट गंगोलीहाट के लिए बस या फिर टैक्सी मिल जाती हैI गंगोलीहाट पहुंचने के बाद  डायरेक्ट आपको Patal Bhuvaneshwar के लिए टैक्सी मिल जाती हैI

 निष्कर्ष 

Patal Bhuvaneshwar उत्तराखंड का एक यूनिक सा आस्था का केंद्र है यदि आपने यह नहीं देखा है तो शायद आप उत्तराखंड अच्छे से घूम ही नहीं पाएI  यहां आप ऐसी ऐसी चीज है देखते हैं जिन्हें देखकर आप आश्चर्यचकित हो सकते हैंI थोड़ा सा पास ही में मां हाट कालिका का मंदिर और मां कोकिला( कोटगारी भगवती) मंदिर  के भी आप दर्शन एक ही दिन में कर सकते हैंI

FAQs:

Patal Bhuvaneshwar गुफा के पुजारी कौन है?

चंद राजाओं द्वारा ही वहाँ पर पूजा का कार्य करने के लिये पुजारियों (भंडारी परिवार) को लाया गया। वर्तमान में भण्डारी परिवार (10 वीं पीढ़ी) अपने पीढ़ी दर पीढ़ी चले आ रहे पूजा कार्य को दक्षता के साथ सम्पन्न करवा रहे हैं। इसमें अन्य जातियाँ रावल, गुरौ, बसौनी, देवपा, भूल भी जुड़ी हुई है।

अल्मोड़ा से पाताल भुवनेश्वर की दूरी?

अल्मोड़ा से पाताल भुनेश्वर की दूरी मात्र 110 किलोमीटर है जो आप किसी भी टैक्सी या अन्य वाहन से पूरी कर सकते हैंI

Patal Bhuvaneshwar cave open time?

Patal Bhuvaneshwar  के खुलने का समय गर्मियों के  दिनों में सुबह 7:00 बजे से शाम के 6:00 बजे तक हैI सर्दियों में यहां समय सुबह 8:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक रहता हैI

हमें पाताल भुवनेश्वर कब जाना चाहिए?

Patal Bhuvaneshwar कभी भी जा सकते हैं लेकिन ज्यादा अच्छा  होगा कि आप शिवरात्रि आज सावन के महीने में जाएं क्योंकि यह गुफा शिव को समर्पित हैI

Patal Bhuvaneshwar गुफा मंदिर में कितने देवी देवता सितारों के रूप में अंकित है?

Patal Bhuvaneshwar गुफा मंदिर में 33 कोटि देवी देवता उतार के रूप में अंकित हैं जोकि शिवजी की जटा से गंगा नहाते हुए दिखाए गए हैं|

यह भी पढ़ें:-

Similar Article:

Latest Article:

Leave a Comment

उत्तराखंड का विशेष पर्व फूलदेई क्यों मनाया जाता है? नए जोड़ों को क्यों पसंद है हनीमून के लिए नैनीताल आना I इसके बाद पूरे साल नैनीताल में बर्फ देखने को नहीं मिलेगी UCC के 10 ऐसे पॉइंट जो सबको पता होने चाहिए नैनीताल की बर्फ में खेलने का सबसे अच्छा समय है अभी