Dhari Devi Mandir चार धाम यात्रा के बाद जाना ना भूलेंI

Maa Dhari Devi को उत्तराखंड के रक्षक के रूप में जानी जाती है। मां Dhari Devi को महाकाली की शक्ति रूप माना जाता है। Dhari Devi चारों धामों को रक्षा प्रदान करती है।मां धारी देवी का नाम धारी इसलिए रखा गया क्योंकि वह चारों धामों को रक्षा देती है।

Dhari Devi Mandir Kahan Hai?

धारी देवी को उत्तराखंड की संरक्षक देवी माना जाता है और इनका मंदिर श्रीमद् देवी भागवत द्वारा भारत के 108 शक्ति स्थलों में से एक है। Dhari Devi Mandir उत्तराखंड के राज्य मे पौड़ी जिले के श्रीनगर गढ़वाल में अलकनंदा नदी के तट पर है। यह मंदिर उत्तराखंड के श्रीनगर गढ़वाल से 15 किलोमीटर ,रुद्रप्रयाग से 20 किलोमीटर और दिल्ली से 360 किलोमीटर की दूरी में है।

Dhari Devi Mandir
Dhari Devi Mandir

Dhari Devi Mandir History

Maa Dhari Devi की पूजा धारी गांव के पांडे ब्राह्मणों द्वारा की जाती है। Maa Dhari Devi जितनी कृपालु और मनोकामना पूर्ण करने वाली देवी है। उतनी ही क्रोधी देवियों में से भी एक है। मां धारी देवी का विकराल रूप तो 2013 को देखा गया था।जब माता रानी की मूर्ति को मंदिर से हटा दिया गया था। तब 2013 में उत्तराखंड को प्रलय का सामना करना पड़ा। जो कि केदारनाथ में देखने को मिला।

पूरा उत्तराखंड डर के मारे रातों को सो नहीं पाता था। जब मां की मूर्ति पुनः उसी स्थान पर स्थापित की गई। तब माता रानी के आंखों से आंसू गिर गए। माता के अलग-अलग चमत्कार मंदिर में होते हैं। माता रानी एक दिन में तीन बार अपने रूप बदलती है। जिसमें सुबह के समय वह कोमल त्वचा की कन्या के रूप में दिखाई पड़ती है।दिन में वह एक औरत के रूप में दिखाई पड़ती है तथा शाम के समय वह एक बूढ़ी औरत का रूप ले लेती है।

Dhari Devi
Dhari Devi

धारी देवी सात भाइयों की इकलौती बहन थी। मां धारी देवी अपने सात भाइयों से बहुत ही ज्यादा प्रेम करती थी तथा अलग-अलग प्रकार के खाना और अपने भाइयों की सेवा करती थी। उनकी उम्र 7 वर्ष की थी। उनके भाइयों को पता चला कि उनकी बहन के ग्रह उनके लिए खराब है।तो उनके भाई उनसे नफरत करने लगे।धारा देवी अपने भाइयों को बचपन से ही बहुत प्यार करती थी क्योंकि उनके माता-पिता बचपन में ही गुजर गए थे। अपने भाइयों को ही अपना सब कुछ मानती थी ।माता पिता के गुजर जाने पर उनकी देखरेख भाइयों के हाथ से हुई।

कुछ समय बाद उनके पांच भाइयों की मृत्यु हो गई।उनके दो शादीशुदा भाइयों ने सोचा कि इनकी मृत्यु धारी देवी के कारण ही हुई है क्योंकि उनके गृह उनके लिए अच्छे नहीं थे। तब उन दोनों भाइयों ने मां धारा देवी की 13 साल की उम्र में उनके सर को उनके धड़ से अलग कर दिया और उनके मरे हुए शरीर को रात में नदी में ही फेंक दिया।मां धारी देवी का सरनदी में बहते हुए एक गांव की तरफ पहुंचा है।जिसका नाम कल्यासौड़ गांव था। वहां पर एक व्यक्ति सुबह सुबह कपड़े धो रहा था। तब उसने मां धारीदेवी को बहते हुए देखा उसने सोचा कोई कन्या बह रही है।

Dhari Devi
Dhari Devi

उस व्यक्ति ने कन्या को बचाना चाहा। परंतु उसे सोचा कि मैं जाऊं तो कैसे जाऊं।‌पानी का बहाव बहुत ही तेज था।इस डर से घबरा गया कि कहीं पानी की तेज लहरों मुझे भी ना डूबा ले जाए।उसने सोचा अब कन्या को नहीं बचा पाएगा।तभी उसे नदी से एक आवाज आई। तू घबरा मत तू मुझे यहां से बचा ले।मैं तुझे आश्वासन देती हूं कि तू जहां जहां पैर रखेगा, वहां वहां तेरे लिए सीड़ी बना दूंगी।यह सुनकर व्यक्ति का साहस बढ़ा और उसने कदम आगे बढ़ाया।जहां जहां उसने कदम रखे ,वहां वहां सीड़ी बनती चली गई।

यदि आप अपना उत्तराखंड का कोई भी टूर बुक करना चाहते हैं तो यहां क्लिक करके बुक कर सकते हैंI

जब उसने कन्या को पकड़ा तो वह डर गया क्योंकि उसके हाथ में कटा हुआ सिर आया ।तो वह घबरा गया फिर उसे आवाज आई तू घबरा मत। मैं देव रूप में हूं और मुझे एक पवित्र,सुंदर स्थान पर एक पत्थर पर स्थापित कर दे। उस व्यक्ति ने वही किया जो कटे हुए सिर ने उस व्यक्ति से बोला था क्योंकि उसके लिए यह किसी चमत्कार से कम नहीं था। कटे हुए सिर ने उसे आवाज दी, उसके लिए सीढ़ियां बनाएं और उसे रक्षा का आश्वासन दिया वह समझ गया कि यह एक देवी है।आज यह कटा हुआ सिर मां धारी देवी के रूप में पूजा जाता है जोकि उत्तराखंड के चार धामों की रक्षा करती है।

यह भी पढ़ें:-

धारी देवी कहाँ स्थित है?

Dhari Devi Mandir उत्तराखंड के राज्य मे पौड़ी जिले के श्रीनगर गढ़वाल में अलकनंदा नदी के तट पर है।


धारी देवी कौन है?

Maa Dhari Devi को उत्तराखंड के रक्षक के रूप में जानी जाती है। मां Dhari Devi को महाकाली की शक्ति रूप माना जाता है। Dhari Devi चारों धामों को रक्षा प्रदान करती है।मां धारी देवी का नाम धारी इसलिए रखा गया क्योंकि वह चारों धामों को रक्षा देती है।

Similar Article:

Latest Article:

Leave a Comment

उत्तराखंड का विशेष पर्व फूलदेई क्यों मनाया जाता है? नए जोड़ों को क्यों पसंद है हनीमून के लिए नैनीताल आना I इसके बाद पूरे साल नैनीताल में बर्फ देखने को नहीं मिलेगी UCC के 10 ऐसे पॉइंट जो सबको पता होने चाहिए नैनीताल की बर्फ में खेलने का सबसे अच्छा समय है अभी