Kedarnath Mandir महादेव का प्रिय धाम

Kedarnath Mandir पंच केदार का सबसे प्रमुख धाम है हिंदुओं की आस्था का एक  प्रमुख मंदिर है जो कि भगवान शिव को समर्पित हैI यह देव भूमि उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में हैI Kedarnath Mandir वर्ष में केवल 6 महीने खुला रहता है इस क्षेत्र में बहुत अधिक बर्फ पड़ने के कारण इसे  6 महीने के लिए बंद रखा जाता हैI असंख्य भक्तों की भीड़ यहां हर दिन लगी रहती हैI

Kedarnath Mandir History in Hindi

स्कंद पुराण के अनुसार एक बार केदार क्षेत्र के बारी में माता पार्वती ने शिवजी से पूछा। तब शिवजी ने उन्हें बताया कि केदार क्षेत्र उन्हें बहुत ही ज्यादा पसंद है तथा बहुत ही प्रिय है। वे यहां पर अपने गणों के साथ निवास करते हैं।इस क्षेत्र में वह तब से रहते हैं। जब से सृष्टि की रचना के लिए उन्होंने ब्रह्मा के रूप धारण किया था।

Kedarnath Mandir
Kedarnath Mandir

यदि आप अपना उत्तराखंड का कोई भी टूर बुक करना चाहते हैं तो यहां क्लिक करके बुक कर सकते हैंI

स्कंद पुराण में स्थान की बहुत ही ज्यादा मान्यता तथा महिमा बताई गई है। इसमें यह भी वर्णन मिलता है कि एक बहेलिया था। जोकि हिरण का मांस बहुत ज्यादा खाता था। उसे हिरण का मांस बहुत ही ज्यादा पसंद था। एक बार वह शिकार करने के लिए केदार क्षेत्र में आया। पूरे दिन घूमने तथा भटकने के बाद उसे कोई शिकार नहीं मिला। शाम के समय नारद मुनि इस जगह में आए।

तो बहेलिया ने दूर से उन्हें हिरण समझ कर उन पर बाढ़ चलाने के लिए तैयार हो गया।लेकिन जब तक वह बाण चलाता सूर्य पूरी तरह डूब गया था। अंधेरा होने पर उसने देखा की एक सांप मेंढक को निकल रहा है। मरने के बाद मेंढक भगवान शिव रूप में बदल गए तथा इसी प्रकार बहेलिया ने देखा कि हिरण को शेर ने मार दिया। मरा हुआ हिरण शिव गणों के साथ शिवलोक जा रहा है। यह सब नजारे देखने के बाद बहेलिया आश्चर्य में पड़ गया। उसी समय नारद मुनि बहेलिया के सामने ब्राह्मण के रूप में आए।

Kedarnath Mandir
Kedarnath Mandir

बहेलिया ने नारद मुनि से इस अद्भुत दृश्य के बारे में पूछा। नारद मुनि ने उसे समझाया कि यह बहुत ही पवित्र जगह है। इस स्थान में मरने के बाद पशु- पक्षियों को भी मुक्ति मिल जाती है। यह सुनकर बहेलिया को अपने पाप कर्मों की याद आई। तो उसने याद आया कि उसने किस प्रकार पशु पक्षियों की हत्या की है। बहेलिया ने अपनी मुक्ति का नारद मुनि से उपाय पूछा। नारद मुनि से शिव का ज्ञान प्राप्त करके बहेरिया केदार क्षेत्र में रहकर शिव भगवान की उपासना में लीन हो गया।

उसकी मृत्यु के बाद उसे शिवलोक प्राप्त हुआ।केदारनाथ के विषय में शिवपुराण में वर्णित है कि नर और नारायण नाम के दो भाइयों ने भगवान शिव की पार्थिक मूर्ति बनाकर उनकी पूजा आराधना की। भगवान शिव के ध्यान में लगे रहते थे। इन भाइयों की पूजा ,प्रार्थना तथा तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने इनके सामने साक्षात प्रकट हुए।भगवान शिव ने इनसे वरदान मांगने को कहा। तो इन दो भाइयों ने जन कल्याण की भावना से शिव भगवान से वरदान मांगा कि इस क्षेत्र में जन कल्याण हेतु आप सदा उपस्थित रहे।

इसी वरदान से भगवान शिव ज्योतिर्लिंग के रूप में यहां प्रकट हुए। Kedarnath Mandir के बारे में पांडव से जुड़ी एक कथा प्रचलित है। जो कि पुराणों की प्राप्त हुई है कि युद्ध के पश्चात अपने भाइयों बंधुओं को अपने हाथों से मारने के पश्चात उन्हें पश्चाताप हो रहा था।तो इसका प्रायश्चित करने के लिए पांडव इस जगह आए। वे इस पाप से मुक्ति होना चाहते थे। इस पाप का समाधान जब उन्होंने वेदव्यास जी से पूछा तो उन्होंने कहा कि अपने भाई बंधुओं की हत्या का पाप से मुक्ति तभी मिल पाएगा।जब भगवान शिव इस पाप से मुक्ति प्रदान करेंगे।

Kedarnath Mandir
Kedarnath Mandir

शिव भगवान पांडवों से प्रसन्न नहीं थे। जब पांडव विश्वनाथ के दर्शन के लिए काशी पहुंचे।तब भगवान शिव प्रकट नहीं हुए। शिव भगवान को ढूंढते हुए पांचो पांडव केदारनाथ पहुंचे।पांडवों को आता देखकर।शिवजी ने  बैल का रूप धारण कर लिया तथा बैलों के झुंड में शामिल हो गए। शिवजी की पहचान करने के लिए भीम एक गुफा के पास पैर फैलाकर खड़े हो गए। सभी बैल उनके पैरों के बीच में से होकर निकलने लगे। लेकिन बैल बने भगवान शिव ने पैर के बीच से जाना स्वीकार नहीं किया।

इससे पांडवों ने शिव भगवान को पहचान लिया।इसके बाद शिव भगवान वहां भूमि में गायब होने लगे। तब बैल बने भगवान शिव को भीम ने पीठ की तरफ से पकड़ लिया। भगवान शिव पांडवों की भक्ति तथा दृढ़ निश्चय को देखकर प्रकट हो गए तथा उनको इस पाप से मुक्त कराया। यहां अरे 1 मिनट रुक आज भी द्रौपदी के साथ पांचों पांडवों की भी पूजा होती है। यहां पर शिव भगवान की पूजा बैल के पृष्ठ भाग के रूप में तभी से होती हुई आ रही है।

Kedarnath Mandir Opening Date 2023 

Kedarnath Mandir के कपाट  खोलने के लिए शिवरात्रि के दिन ही मुहूर्त निकाला जाता है यह लगभग 13-14 अप्रैल यानी बैसाखी के बाद का ही  होता हैI  केदारनाथ के खुलने का कोई  फिक्स दिन नहीं हैI खुलने के बाद यह लगभग 6 महीने तक खुला रहता हैI 6 महीने के भीतर  भक्त कभी भी दर्शन के लिए जा सकते हैंI

Kedarnath Mandir
Kedarnath Mandir

Kedarnath Mandir Closing Date 2023

जिस प्रकार Kedarnath Mandir के कपाट खोलने के लिए मुहूर्त निकाला जाता है उसी प्रकार उनको बंद करने के लिए भी एक विशेष मुहूर्त निकाला जाता है जो लगभग 15 नवंबर से पहले का ही होता हैI 15 नवंबर तक का  केदारनाथ के कपाट को बंद कर दिया जाता हैI इस समय यहां बहुत बर्फबारी होती है इसलिए इन्हें बंद रखा जाता है उसके बाद यह अप्रैल में खोले जाते हैंI 

यह भी पढ़ें:-

Kedarnath Mandir Registration 2023

बात करें Kedarnath Mandir यात्रा के रजिस्ट्रेशन की तो सबसे पहले बता दें कि यहां पर कौन आवेदन नहीं कर सकताI  13 साल से कम उम्र के बच्चे यहां पर आवेदन नहीं कर सकते इसके अलावा 75 साल से अधिक उम्र के लोग भी यहां पर आवेदन नहीं कर सकतेI  गर्भवती महिलाओं  का रजिस्ट्रेशन भी नहीं होताI अब बात रजिस्ट्रेशन की तो यहां पर रजिस्ट्रेशन के लिए दो से तीन प्रकार के विकल्प मौजूद हैं जिसमें आप ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन कर सकते हैंI

  • 8394833833 इस नंबर पर व्हाट्सएप करके आप रजिस्ट्रेशन कर सकते हैंI
  • टोल फ्री नंबर 01353520100 पर बात करके भी आप रजिस्ट्रेशन कर सकते हैंI
  • https://registrationandtouristcare.uk.gov.in/ पर आप डायरेक्ट ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं या फिर इसका मोबाइल ऐप डाउनलोड कर सकते हैं जो कि  टूरिस्ट  केयर उत्तराखंड नाम से हैI 
  • ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए जब आप सोनभद्र पहुंच जाते हैं तो ही कर सकते हैंI

 पर्यटक कृपया ध्यान देंI  यह सारी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया चाहे वह ऑफलाइन हो या ऑनलाइन हो बिल्कुल फ्री होती हैI  तो इसके लिए किसी को भी रुपए देने से बचेंI 

Kedarnath Mandir
Kedarnath Mandir

निष्कर्ष: 

कोई भी व्यक्ति जिन्हें भी अपने सनातन धर्म में विश्वास हो उन्हें यहां अवश्य ही एक बार आना चाहिएI देवभूमि में आकर उन्हें केदारनाथ के अलावा भी बहुत से ऐसे धार्मिक स्थलों  दर्शन होंगे जिनसे उनका जीवन सफल हो जाएगाI इसीलिए आपसे निवेदन है कि आप यहां आए और Kedarnath Mandir के साथ साथ Patal Bhuvaneshwar, कैची धाम, Chipla Kedar, छोटा कैलाश मंदिर और कोटगारी भगवती मंदिर जैसे भव्य मंदिरों  के दर्शन करेंI धन्यवाद!

FAQs

क्या मैं अभी केदारनाथ की यात्रा कर सकता हूं?

यदि आप मई से लेकर नवंबर के बीच में ( जब मंदिर के द्वार खुले हो) आना चाहते हैं तो आप कभी भी आ सकते हैंI

क्या हम बिना पास के केदारनाथ जा सकते हैं?

अब उत्तराखंड सरकार ने केदारनाथ यात्रा के लिए पंजीकरण को अनिवार्य कर दिया है जो कि ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार से हो सकता हैI बिना  रजिस्ट्रेशन के  केदारनाथ नहीं जा सकतेI

क्या केदारनाथ यात्रा सुरक्षित है?

 वे लोग जो भगवान में विश्वास रखते हैं  यह यात्रा उनके लिए एकदम सुरक्षित रहती हैI

क्या केदारनाथ यात्रा आसान है?

वे लोग  जो शारीरिक और मानसिक तौर पर फिट हैं यो यात्रा उनके लिए आसान  है क्योंकि यहां पर 18 किलोमीटर की पैदल यात्रा हैI हालांकि जो लोग थक जाते हैं उनके लिए भी यहां पर घोड़ा गाड़ी  की सुविधाएं होती हैI

क्या केदारनाथ 1 दिन में किया जा सकता है?

18 किलोमीटर का यह पैदल ट्रैक है तो आप को कम से कम 3 से 4 दिन लेकर यहां आना चाहिए जिससे कि आप अच्छे से दर्शन भी कर सके और थोड़ा आसपास भी घूम सकेंI

क्या केदारनाथ में ऑक्सीजन की समस्या है?

अधिक ऊंचाई होने से थोड़ा सा सांस फूलने की प्रॉब्लम हो सकती है लेकिन यहां पर ऑक्सीजन की कोई भी कमी नहीं हैI

Similar Article:

Latest Article:

Leave a Comment

उत्तराखंड का विशेष पर्व फूलदेई क्यों मनाया जाता है? नए जोड़ों को क्यों पसंद है हनीमून के लिए नैनीताल आना I इसके बाद पूरे साल नैनीताल में बर्फ देखने को नहीं मिलेगी UCC के 10 ऐसे पॉइंट जो सबको पता होने चाहिए नैनीताल की बर्फ में खेलने का सबसे अच्छा समय है अभी